Vijayalaxmi Sadho Can Take Position Of Kamal Nath As Opposition Leader – इमरती देवी को हराने में बड़ा योगदान देने वाली इस नेता को मिल सकती है कमलनाथ की जगह

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, भोपाल
Updated Sun, 22 Nov 2020 06:42 PM IST

विजयलक्ष्मी साधो
– फोटो : twitter.com/Drvijyalakshmi

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों पर हाल ही में हुए उपचुनाव में करारी हार के बावजूद एक खास सीट पर मिली जीत से उसके हौसले बुलंद हैं। चुनाव में सबसे ज्यादा चर्चा में रहने वाली डबरा विधानसभा सीट और यहां से भाजपा की उम्मीदवार इमरती देवी को कांग्रेस ने ता सुरेश राजे ने मात दी थी। अब इस सीट पर कांग्रेस की जीत सुनिश्चित करने में अहम योगदान देने वाली विजयलक्ष्मी साधो को पार्टी बड़ा इनाम दे सकती है। 

डबरा विधानसभा सीट पर कांग्रेस की प्रभारी रहीं साधो को, कमलनाथ के नेता प्रतिपक्ष का पद छोड़ने पर, यह जिम्मेदारी मिल सकती है। साधो कई दिग्गज नेताओं को पीछे छोड़ते हुए इस पद की प्रमुख दावेदार बन गई हैं। हालांकि, कांग्रेस नेताओं का कहना यही है कि नेता प्रतिपक्ष कौन होगा इसका फैसला पार्टी नेतृत्व ही लेगा। लेकिन, कहा जा रहा है कि साधो के आने से राज्य में कांग्रेस की गिरती छवि सुधर सकती है। 

बता दें कि उपचुनाव के परिणाम सामने आने के साथ ही कमलनाथ के नेता प्रतिपक्ष का पद छोड़ने की अटकलें शुरू हो गई थीं। इन सबके बीच कई अन्य नेता भी यह पद पाने के लिए मशक्कत करने में जुट गए हैं। इसमें कमलनाथ के समर्थक सज्जन सिंह वर्मा, बाला बच्चन और एनपी प्रजापति जैसे नेताओं का नाम प्रमुख है। उधर, दिग्विजय सिंह के समर्थन डॉ. गोविंद सिंह भी इस पद के प्रमुख दावेदारों में से एक हैं।   

प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों पर हाल ही में हुए उपचुनाव में करारी हार के बावजूद एक खास सीट पर मिली जीत से उसके हौसले बुलंद हैं। चुनाव में सबसे ज्यादा चर्चा में रहने वाली डबरा विधानसभा सीट और यहां से भाजपा की उम्मीदवार इमरती देवी को कांग्रेस ने ता सुरेश राजे ने मात दी थी। अब इस सीट पर कांग्रेस की जीत सुनिश्चित करने में अहम योगदान देने वाली विजयलक्ष्मी साधो को पार्टी बड़ा इनाम दे सकती है। 

डबरा विधानसभा सीट पर कांग्रेस की प्रभारी रहीं साधो को, कमलनाथ के नेता प्रतिपक्ष का पद छोड़ने पर, यह जिम्मेदारी मिल सकती है। साधो कई दिग्गज नेताओं को पीछे छोड़ते हुए इस पद की प्रमुख दावेदार बन गई हैं। हालांकि, कांग्रेस नेताओं का कहना यही है कि नेता प्रतिपक्ष कौन होगा इसका फैसला पार्टी नेतृत्व ही लेगा। लेकिन, कहा जा रहा है कि साधो के आने से राज्य में कांग्रेस की गिरती छवि सुधर सकती है। 

बता दें कि उपचुनाव के परिणाम सामने आने के साथ ही कमलनाथ के नेता प्रतिपक्ष का पद छोड़ने की अटकलें शुरू हो गई थीं। इन सबके बीच कई अन्य नेता भी यह पद पाने के लिए मशक्कत करने में जुट गए हैं। इसमें कमलनाथ के समर्थक सज्जन सिंह वर्मा, बाला बच्चन और एनपी प्रजापति जैसे नेताओं का नाम प्रमुख है। उधर, दिग्विजय सिंह के समर्थन डॉ. गोविंद सिंह भी इस पद के प्रमुख दावेदारों में से एक हैं।   

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *