Hathras Case Up Govt Files Affidavit In Supreme Case Says Three-layered Security Has Been Provided For The Security Of Victim’s Family And Witnesses – हाथरस मामला: सुप्रीम कोर्ट में यूपी सरकार का हलफनामा, पीड़ित परिवार और गवाहों को दी जा रही है तीन-स्तरीय सुरक्षा

सुप्रीम कोर्ट-योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)
– फोटो : PTI





पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर


कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

उत्तर प्रदेश सरकार ने हाथरस मामले में सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर किया है। 

यूपी सरकार ने हलफनामे में कहा है कि, पीड़ित परिवार और गवाहों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, तीन-स्तरीय सुरक्षा प्रदान की गई है। 

साथ ही, अदालत को सीबीआई को निर्देश देने के लिए कहा है कि वह राज्य सरकार को जांच पर पाक्षिक स्टेटस रिपोर्ट दे। 

 

जिससे यह सुप्रीम कोर्ट के समक्ष यूपी डीजीपी द्वारा दायर किया जा सके। 

ये है पूरा मामला 

हाथरस के चंदपा कोतवाली इलाके के एक गांव में 14 सितंबर को चार लोगों ने 19 साल की युवती के साथ कथित सामूहिक दुष्कर्म किया था। जब बिटिया के साथ दरिंदगी हुई तब वह कुछ भी बोलने की स्थिति में नहीं थी। जीभ में चोट लगी थी, रीढ की हड्डी टूटी थी। 

15 सितंबर सुबह 11 बजे उसे हाथरस के जिला अस्पताल लाया गया, जहां से अलीगढ़ के लिए रेफर कर दिया गया। 22 सितंबर तक सामान्य तरीके से बिटिया का इलाज होता रहा, जबकि उसकी हालत काफी गंभीर थी। 23 सितंबर को बिटिया को वेंटिलेटर मिला। 

गंभीर हालत को देखते हुए 28 सितंबर को दिल्ली रेफर कर दिया गया। दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज के दौरान 29 सितंबर को पीड़ित की इलाज के दौरान मौत हो गई। पीड़िता के भाई की तहरीर पर चार युवकों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था।

 

उत्तर प्रदेश सरकार ने हाथरस मामले में सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर किया है। 

यूपी सरकार ने हलफनामे में कहा है कि, पीड़ित परिवार और गवाहों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, तीन-स्तरीय सुरक्षा प्रदान की गई है। 

साथ ही, अदालत को सीबीआई को निर्देश देने के लिए कहा है कि वह राज्य सरकार को जांच पर पाक्षिक स्टेटस रिपोर्ट दे। 
 

जिससे यह सुप्रीम कोर्ट के समक्ष यूपी डीजीपी द्वारा दायर किया जा सके। 

ये है पूरा मामला 

हाथरस के चंदपा कोतवाली इलाके के एक गांव में 14 सितंबर को चार लोगों ने 19 साल की युवती के साथ कथित सामूहिक दुष्कर्म किया था। जब बिटिया के साथ दरिंदगी हुई तब वह कुछ भी बोलने की स्थिति में नहीं थी। जीभ में चोट लगी थी, रीढ की हड्डी टूटी थी। 

15 सितंबर सुबह 11 बजे उसे हाथरस के जिला अस्पताल लाया गया, जहां से अलीगढ़ के लिए रेफर कर दिया गया। 22 सितंबर तक सामान्य तरीके से बिटिया का इलाज होता रहा, जबकि उसकी हालत काफी गंभीर थी। 23 सितंबर को बिटिया को वेंटिलेटर मिला। 

गंभीर हालत को देखते हुए 28 सितंबर को दिल्ली रेफर कर दिया गया। दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज के दौरान 29 सितंबर को पीड़ित की इलाज के दौरान मौत हो गई। पीड़िता के भाई की तहरीर पर चार युवकों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था।

 

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *