Delhi Cm Kejriwal Informs Pm Modi About Covid Situation In Delhi Request Him To Interfere In Stubble Burning Pollution Matter To Get Rid Of It – सीएम केजरीवाल ने प्रधानमंत्री मोदी से किया आग्रह- पराली से होने वाले प्रदूषण के मामले में करें हस्तक्षेप

अमर उजाला नेटवर्क, नई दिल्ली
Updated Tue, 24 Nov 2020 12:03 PM IST

पीएम मोदी सीएम केजरीवाल
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बात कर रहे हैं। इस दौरान उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से भी बात की। सीएम केजरीवाल ने पीएम को राजधानी की स्थिति से अवगत कराने के साथ ही मांग की है कि वह पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण के मामले में हस्तक्षेप करें ताकि प्रदूषण से मुक्ति मिले।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बताया कि दिल्ली में कोरोना के तीसरे पीक के दौरान 10 नवंबर को 8600 संक्रमित सामने आए। तब से ही धीरे-धीरे संक्रमित मामले और पॉजिटिविटी दर नीचे आ रही है। केजरीवाल ने बताया कि तीसरे पीक में ज्यादा गंभीर स्थिति इसलिए है क्योंकि इसमें प्रदूषण भी एक कारक है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री से आग्रह किया कि दिल्ली के पड़ोसी राज्यों से आने वाले पराली के धुएं से होने वाले प्रदूषण के मामले में हस्तक्षेप करें ताकि इस समस्या से निजात मिल सके। केजरीवाल ने जोर दिया कि पूसा इंस्टीट्यूट द्वारा बनाए गए केमिकल के इस्तेमाल को बढ़ावा दिया जाए ताकि पराली खाद में बदल जाए और प्रदूषण भी न हो। मुख्यमंत्री ने यह भी आग्रह किया कि केंद्र सरकार के अस्पतालों में 1000 आईसीयू बेड और लगाए जाएं जब तक कि कोरोना की तीसरी लहर का अंत न हो।

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बात कर रहे हैं। इस दौरान उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से भी बात की। सीएम केजरीवाल ने पीएम को राजधानी की स्थिति से अवगत कराने के साथ ही मांग की है कि वह पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण के मामले में हस्तक्षेप करें ताकि प्रदूषण से मुक्ति मिले।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बताया कि दिल्ली में कोरोना के तीसरे पीक के दौरान 10 नवंबर को 8600 संक्रमित सामने आए। तब से ही धीरे-धीरे संक्रमित मामले और पॉजिटिविटी दर नीचे आ रही है। केजरीवाल ने बताया कि तीसरे पीक में ज्यादा गंभीर स्थिति इसलिए है क्योंकि इसमें प्रदूषण भी एक कारक है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री से आग्रह किया कि दिल्ली के पड़ोसी राज्यों से आने वाले पराली के धुएं से होने वाले प्रदूषण के मामले में हस्तक्षेप करें ताकि इस समस्या से निजात मिल सके। केजरीवाल ने जोर दिया कि पूसा इंस्टीट्यूट द्वारा बनाए गए केमिकल के इस्तेमाल को बढ़ावा दिया जाए ताकि पराली खाद में बदल जाए और प्रदूषण भी न हो। मुख्यमंत्री ने यह भी आग्रह किया कि केंद्र सरकार के अस्पतालों में 1000 आईसीयू बेड और लगाए जाएं जब तक कि कोरोना की तीसरी लहर का अंत न हो।

 

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *