West Bengal Assembly Election 2021, Tmc Mp Nusrat Jahan On Love Jihad, Says Do Not Make Religion A Political Tool – पश्चिम बंगाल: ‘लव जिहाद’ पर बोलीं नुसरत जहां- प्यार निजी मामला, इसे राजनीतिक उपकरण न बनाएं

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, कोलकाता
Updated Mon, 23 Nov 2020 04:59 PM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

पश्चिम बंगाल में 2021 में विधानसभा चुनाव होने वाला है और उसके लिए अभी से ही दो प्रमुख पार्टियों के नेताओं के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है। भारतीय जनता पार्टी जहां अभी लव जिहाद के मुद्दे को जोर-शोर से उठा रही है। वहीं विपक्षी पार्टी टीएमसी भी इस मुद्दे पर हमलावर है।

इसी क्रम में सोमवार को टीएमसी सांसद और अभिनेत्री नुसरत जहां ने पार्टी दफ्तर में प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान उन्होंने कहा कि प्यार निजी मामला होता है और ऐसे में उसके साथ जिहाद नहीं हो सकता है। नुसरत ने कहा कि प्यार की आड़ में धर्म को राजनीतिक उपकरण न बनाएं।

नुसरत ने विपक्षी पार्टियों पर आरोप लगाते हुए कहा कि चुनाव से पहले विरोधी इस तरह के हथकंडे का प्रयोग  करते हैं। वहीं राज्यपाल की ओर से लगातार हो रही बयानबाजी पर नुसरत ने कहा कि राज्य सरकार जनता के बीच चुनकर आई है, जबकि राज्यपाल को राष्ट्रपति के द्वारा नियुक्त किया गया है। ऐसे में उनके पास सरकार के खिलाफ कार्रवाई करने का अधिकार नहीं है। राजभवन सिर्फ बीजेपी प्रवक्ता का दफ्तर बन गया है।

गौरतलब है कि लव जिहाद को लेकर बीते कुछ दिनों में नेताओं की तरफ से काफी बयानबाजी हुई है, कई भाजपा शासित राज्य इसको लेकर कानून ला रहे हैं। जबकि जहां भाजपा विपक्ष में है, वहां की सरकार से कानून बनाने के लिए आवाज उठा रही है। 

पश्चिम बंगाल में 2021 में विधानसभा चुनाव होने वाला है और उसके लिए अभी से ही दो प्रमुख पार्टियों के नेताओं के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है। भारतीय जनता पार्टी जहां अभी लव जिहाद के मुद्दे को जोर-शोर से उठा रही है। वहीं विपक्षी पार्टी टीएमसी भी इस मुद्दे पर हमलावर है।

इसी क्रम में सोमवार को टीएमसी सांसद और अभिनेत्री नुसरत जहां ने पार्टी दफ्तर में प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान उन्होंने कहा कि प्यार निजी मामला होता है और ऐसे में उसके साथ जिहाद नहीं हो सकता है। नुसरत ने कहा कि प्यार की आड़ में धर्म को राजनीतिक उपकरण न बनाएं।

नुसरत ने विपक्षी पार्टियों पर आरोप लगाते हुए कहा कि चुनाव से पहले विरोधी इस तरह के हथकंडे का प्रयोग  करते हैं। वहीं राज्यपाल की ओर से लगातार हो रही बयानबाजी पर नुसरत ने कहा कि राज्य सरकार जनता के बीच चुनकर आई है, जबकि राज्यपाल को राष्ट्रपति के द्वारा नियुक्त किया गया है। ऐसे में उनके पास सरकार के खिलाफ कार्रवाई करने का अधिकार नहीं है। राजभवन सिर्फ बीजेपी प्रवक्ता का दफ्तर बन गया है।

गौरतलब है कि लव जिहाद को लेकर बीते कुछ दिनों में नेताओं की तरफ से काफी बयानबाजी हुई है, कई भाजपा शासित राज्य इसको लेकर कानून ला रहे हैं। जबकि जहां भाजपा विपक्ष में है, वहां की सरकार से कानून बनाने के लिए आवाज उठा रही है। 

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5