Nagrota Incident, The Envoys Of United States Of America, France, Russia And Japan Were Among The Heads Of Missions Briefed On Nagrota Incident By Mea – नगरोटा मुठभेड़: भारत ने दुनिया को बताए पाकिस्तान के नापाक मंसूबे

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Mon, 23 Nov 2020 08:13 PM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

भारतीय विदेश मंत्रालय ने 19 नवंबर को जम्मू-कश्मीर के नगरोटा में हुए एनकाउंटर के बारे में  सोमवार को संयुक्त राज्य अमेरिका, फ्रांस, रूस और जापान के राजदूतों को जानकारी दी है। विदेश मंत्रालय ने इनसे बताया कि जम्मू और कश्मीर में स्थिति को अस्थिर करने, स्थानीय चुनावों और लोकतंत्र को खत्म करने के लिए पाकिस्तान निरंतर प्रयास कर रहा है। मंत्रालय ने कहा कि यह पाकिस्तान द्वारा एक सुनियोजित आतंकवादी हमले को अंजाम देने की योजना थी, जिसे भारतीय सेना ने नाकाम कर दिया।

विदेश मंत्रालय ने बताया दि जम्मू कश्मीर के सांबा सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर रविवार को सीमा सुरक्षा बल और जम्मू-कश्मीर पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में 150 मीटर लंबी भूमिगत सुरंग मिली है। इस सुरंग का इस्तेमाल आतंकवादियों द्वारा घुसपैठ के लिए किया जाता था। यह सुरंग अंतरराष्ट्रीय सीमा से महज 160 मीटर की दूरी पर मिली है। सूत्रों ने इसकी जानकारी दी।
 

बता दें कि जांच एजेंसियों को पुख्ता सबूत मिले हैं कि जैश के इन आतंकियों को पाकिस्तान से ट्रेनिंग देकर भेजा गया था और वहीं से उन्हें निर्देश भी दिए जा रहे थे। जांच एजेसी को आतंकियों के पास से पाकिस्तान की एक कंपनी का डिजिटल मोबाइल रेडियो बरामद हुआ है।

यही नहीं आतंकियों के पास से जो मोबाइल मिले हैं, उसके मैसेज देखने के बाद साफ हो जाता है कि आतंकी लगातार पाकिस्तान में बैठे आकाओं के संपर्क में थे। एजेंसी को शक है कि ये मैसेज पाकिस्तान के शकरदढ़ से भेजे गए थे।

नगरोटा में हुई मुठभेड़ में आतंकवादियों को मार गिराया गया
पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के निर्देश पर जम्मू-कश्मीर में पुलवामा जैसे बड़े हमले की साजिश रची गई थी। जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मोस्टवांटेड आतंकी मौलाना मसूद अजहर के भाई अब्दुल रऊफ असगर को इस साजिश को अंजाम देने का जिम्मा दिया था, जिसने जैश के ही चार आतंकियों को नापाक मंसूबे को पूरा करने के लिए चुना। इन आतंकियों ने 18-19 नवंबर की दरम्यानी रात सांबा सेक्टर में घुसपैठ की थी, जिसके बाद सुरक्षा बलों ने इन चारों को जम्मू सेक्टर के नगरोटा में हुई मुठभेड़ में मार गिराया।

भारतीय विदेश मंत्रालय ने 19 नवंबर को जम्मू-कश्मीर के नगरोटा में हुए एनकाउंटर के बारे में  सोमवार को संयुक्त राज्य अमेरिका, फ्रांस, रूस और जापान के राजदूतों को जानकारी दी है। विदेश मंत्रालय ने इनसे बताया कि जम्मू और कश्मीर में स्थिति को अस्थिर करने, स्थानीय चुनावों और लोकतंत्र को खत्म करने के लिए पाकिस्तान निरंतर प्रयास कर रहा है। मंत्रालय ने कहा कि यह पाकिस्तान द्वारा एक सुनियोजित आतंकवादी हमले को अंजाम देने की योजना थी, जिसे भारतीय सेना ने नाकाम कर दिया।

विदेश मंत्रालय ने बताया दि जम्मू कश्मीर के सांबा सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर रविवार को सीमा सुरक्षा बल और जम्मू-कश्मीर पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में 150 मीटर लंबी भूमिगत सुरंग मिली है। इस सुरंग का इस्तेमाल आतंकवादियों द्वारा घुसपैठ के लिए किया जाता था। यह सुरंग अंतरराष्ट्रीय सीमा से महज 160 मीटर की दूरी पर मिली है। सूत्रों ने इसकी जानकारी दी।

 

बता दें कि जांच एजेंसियों को पुख्ता सबूत मिले हैं कि जैश के इन आतंकियों को पाकिस्तान से ट्रेनिंग देकर भेजा गया था और वहीं से उन्हें निर्देश भी दिए जा रहे थे। जांच एजेसी को आतंकियों के पास से पाकिस्तान की एक कंपनी का डिजिटल मोबाइल रेडियो बरामद हुआ है।

यही नहीं आतंकियों के पास से जो मोबाइल मिले हैं, उसके मैसेज देखने के बाद साफ हो जाता है कि आतंकी लगातार पाकिस्तान में बैठे आकाओं के संपर्क में थे। एजेंसी को शक है कि ये मैसेज पाकिस्तान के शकरदढ़ से भेजे गए थे।

नगरोटा में हुई मुठभेड़ में आतंकवादियों को मार गिराया गया
पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के निर्देश पर जम्मू-कश्मीर में पुलवामा जैसे बड़े हमले की साजिश रची गई थी। जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मोस्टवांटेड आतंकी मौलाना मसूद अजहर के भाई अब्दुल रऊफ असगर को इस साजिश को अंजाम देने का जिम्मा दिया था, जिसने जैश के ही चार आतंकियों को नापाक मंसूबे को पूरा करने के लिए चुना। इन आतंकियों ने 18-19 नवंबर की दरम्यानी रात सांबा सेक्टर में घुसपैठ की थी, जिसके बाद सुरक्षा बलों ने इन चारों को जम्मू सेक्टर के नगरोटा में हुई मुठभेड़ में मार गिराया।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5