Coronavirus In Delhi Hc Ask Aap Govt Why Did You Wait For 18 Days To Restrict Number Of Attendees At Weddings – कोरोना: हाईकोर्ट ने केजरीवाल सरकार को फटकारा, पूछा- संक्रमण बढ़ने पर भी नींद से क्यों नहीं जागे

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Thu, 19 Nov 2020 01:35 PM IST

अरविंद केजरीवाल (फाइल फोटो)
– फोटो : Twitter @CMODelhi

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना के तेजी से बढ़ते संक्रमण को लेकर गुरुवार को दिल्ली हाईकोर्ट ने अरविंद केजरीवाल सरकार को जमकर फटकारा। कोर्ट ने पूछा कि शादियों में मेहमानों की संख्या कम करने का इंतजार क्यों किया गया?  संक्रमण बढ़ने पर भी आप नींद से क्यों नहीं जागे?

दिल्ली उच्च न्यायालय ने आप सरकार से पूछा,’शादियों में शामिल होने वाले लोगों की संख्या कम करने के लिए अब तक की प्रतीक्षा क्यों की गई?’ अदालत ने केजरीवाल सरकार से पूछा कि उन्होंने संख्या कम करने के लिए 18 दिन का इंतजार क्यों किया। इस अवधि के दौरान कोविड-19 के कारण कितने लोगों की मौत हुई?

‘हम झकझोरते हैं तो आप कछुआ चाल चलने लगते हैं’
दिल्ली हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से कोरोना संक्रण से बचाव के लिए उठाए जा रहे कदमों की जानकारी मांगते हुए काफी तल्ख टिप्पणी की। अदालत ने कहा, ‘जब हम आपको झकझोर कर कुछ पूछते हैं तो आप कछुए की चाल से चलने लगते हैं।’ अदालत ने कहा कि मास्क नहीं पहनने और सामाजिक दूरी का पालन नहीं करने पर जुर्माना लगाना क्या कोरोना के निवारक उपाय नहीं हैं। 

देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना के तेजी से बढ़ते संक्रमण को लेकर गुरुवार को दिल्ली हाईकोर्ट ने अरविंद केजरीवाल सरकार को जमकर फटकारा। कोर्ट ने पूछा कि शादियों में मेहमानों की संख्या कम करने का इंतजार क्यों किया गया?  संक्रमण बढ़ने पर भी आप नींद से क्यों नहीं जागे?

दिल्ली उच्च न्यायालय ने आप सरकार से पूछा,’शादियों में शामिल होने वाले लोगों की संख्या कम करने के लिए अब तक की प्रतीक्षा क्यों की गई?’ अदालत ने केजरीवाल सरकार से पूछा कि उन्होंने संख्या कम करने के लिए 18 दिन का इंतजार क्यों किया। इस अवधि के दौरान कोविड-19 के कारण कितने लोगों की मौत हुई?

‘हम झकझोरते हैं तो आप कछुआ चाल चलने लगते हैं’

दिल्ली हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से कोरोना संक्रण से बचाव के लिए उठाए जा रहे कदमों की जानकारी मांगते हुए काफी तल्ख टिप्पणी की। अदालत ने कहा, ‘जब हम आपको झकझोर कर कुछ पूछते हैं तो आप कछुए की चाल से चलने लगते हैं।’ अदालत ने कहा कि मास्क नहीं पहनने और सामाजिक दूरी का पालन नहीं करने पर जुर्माना लगाना क्या कोरोना के निवारक उपाय नहीं हैं। 

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5