Franklin Templeton’s 6 date scheme cannot be closed without the consent of the unitholders: Karnataka high court | यूनिटहोल्डर्स की सहमति के बिना बंद नहीं हो सकती फ्रैंकलिन टेंपलटन की 6 डेट स्कीम

  • Hindi News
  • Business
  • Franklin Templeton’s 6 Date Scheme Cannot Be Closed Without The Consent Of The Unitholders: Karnataka High Court

नई दिल्ली4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

फ्रैंकलिन टेंपलटन के मुताबिक, बंद की गई 6 डेट स्कीम्स से 15 अक्टूबर तक 8302 करोड़ रुपए मिल चुके हैं।

  • हाईकोर्ट ने कहा-ट्रस्टीज ने सेबी के रेगुलेशन के अनुसार कार्यवाही नहीं की
  • फ्रैंकलिन टेंपलटन इंडिया ने 23 अप्रैल को बंद की थीं 6 डेट स्कीम

कर्नाटक हाईकोर्ट ने फंड हाउस फ्रैंकलिन टेंपलटन इंडिया के 6 डेट स्कीमों को बंद करने के फैसले पर रोक लगा दी है। हाईकोर्ट की ओर से बीते सोमवार को सुनाए गए फैसले के मुताबिक, इन स्कीम्स को बंद करने के लिए यूनिटहोल्डर्स की सामान्य सहमति अनिवार्य है।

ट्रस्टीज की कार्यवाही पर रोक लगाई

हाईकोर्ट ने कहा है कि जब तक यूनिटहोल्डर्स की सामान्य सहमति नहीं मिल जाती है, तब तक ट्रस्टीज इन 6 स्कीम्स को बंद करने के लिए कोई कार्यवाही नहीं करेंगे। इसका मतलब यह है कि इन स्कीम्स को बंद करने की कार्यवाही के लिए यूनिटहोल्डर्स की सहमति अनिवार्य है।

6 सप्ताह बाद लागू होगा फैसला

हाईकोर्ट ने कहा है कि अभी सुप्रीम कोर्ट में अवकाश चल रहा है। इसलिए फ्रैंकलिन टेंपलटन को अपील का समय देने के लिए यह फैसला 6 सप्ताह बाद लागू होगा। तब तक रिफंड, रिडेंप्शन पर यथास्थिति बनी रहेगी। साथ ही कोर्ट ने इन 6 स्कीम्स की ताजा बोरोइंग पर भी रोक लगा दी है।

ट्रस्टीज ने नियमों के अनुसार कार्यवाही नहीं की

चीफ जस्टिस अभय श्रीनिवास ओका और जस्टिस अशोक एस किनागी की पीठ ने कहा कि सेबी के रेगुलेशन 39-40 के तहत ट्रस्टीज के फैसले में हस्तक्षेप की कोई मेरिट नहीं मिली है। लेकिन ट्रस्टीज ने इन स्कीम्स को बंद करने में नियमों के अनुसार कार्यवाही नहीं की है।

फैसले पर ले रहे हैं कानूनी सलाह

उधर, फ्रैंकलिन टेंपलटन इंडिया ने बयान जारी कर कहा है कि कर्नाटक हाईकोर्ट के फैसले का अध्ययन किया जा रहा है। इसके बाद कानूनी सलाह लेकर यूनिटधारकों के हित में आवश्यक कदम उठाया जाएगा।

23 अप्रैल को बंद की गई थीं यह 6 डेट स्कीम

फ्रैंकलिन टेंपलटन ने 23 अप्रैल को अपनी 6 डेट स्कीम्स को बंद कर दिया था। जिन स्कीम्स को बंद किया गया था, उनमें फ्रैंकलिन इंडिया लो ड्यूरेशन फंड, फ्रैंकलिन इंडिया डायनामिक एक्रुअल फंड, फ्रैंकलिन इंडिया क्रेडिट रिस्क फंड, फ्रैंकलिन इंडिया शॉर्ट टर्म इनकम प्लान, फ्रैंकलिन इंडिया अल्ट्रा शॉर्ट बॉन्ड फंड और फ्रैंकलिन इंडिया इनकम ऑपर्चुनिटीज फंड शामिल हैं।

बंद स्कीम्स से 15 अक्टूबर 8302 करोड़ रुपए मिले

फ्रैंकलिन टेंपलटन के हालिया बयान के मुताबिक, बंद की गई 6 डेट स्कीम्स से 15 अक्टूबर तक 8302 करोड़ रुपए मिल चुके हैं। यह धनराशि मैच्योरिटी, प्री-पेमेंट और कूपन पेमेंट के जरिए मिली है। 22 अप्रैल तक इनका कुल असेट अंडर मैनेजमेंट यानी एयूएम 22 अप्रैल तक 25,856 करोड़ रुपए रहा था।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5 Difference Between Apple Watch 4 And 5